रविवार, 28 अक्तूबर 2018

किसी ने ठीक ही कहा है -
1.-अपनी जरूरतें व इच्छाएं सीमित रखिए,
2.-सामथ्र्य के अनुसार जीने की आदत लगाइए,
3.-समाज के लिए अपनी उपयोगिता बढ़ा दीजिए,
4.-अपने परिवार व मित्रों के सामने अपने अहं को 
समेटे रहिए,
5-कम बोलिए, कम खाइए और 
6-हर व्यक्ति में कुछ गुण होते हैं।अहंकार छोड़कर 
उसके  गुणों की तारीफ कीजिए,भले वह आपके गुणों की चर्चा न करे।
इससे अंततः आपको खुशी मिलेगी।  


कोई टिप्पणी नहीं: